24 ज़बरदस्त Science Facts जिन्हें लोग समझते हैं झूठ

science facts in hindiScience facts: पर विश्वास करना थोड़ा कठिन है, पर यह सच के ज़्यादा करीब है कि आज भी दुनिया में कुछेक ऐसी चीज़ें हैं जो विज्ञान और वैज्ञानिकों से परे बनी हुई हैं. इंसानी शरीर की कई पहेलियां विज्ञान अभी भी सुलझाने की कोशिश कर रहा है. साइंस के नाम पर कई वैज्ञानिक अजीबोगरीब तरह के एक्सपेरिमेंट करते रहते हैं. आज हम आपको कुछ ऐसे “Science facts” बताएंगे जो आपको शायद न पता हो.

Science Facts in Hindi
विज्ञान से जुड़े तथ्य

1. वैज्ञानिक आज तक निश्चित नहीं कर पाए हैं, कि डायनासोर का रंग क्या था।

2. शुक्र ग्रह पर एक दिन पृथ्वी के एक साल से बड़ा होता है।

3. आपकी जानकारी के लिए बता दे -40 डिग्री फारेनहाइट -40 डिग्री सेल्सियस के बराबर है।

4. शनि ग्रह का घनत्व इतना कम हैं कि यदि कांच के किसी विशालकर बर्तन में पानी भरकर शनि को उसमें डाला जाये तो वह उसमें तैरने लगेगा।

5. तापमान चाहे कितना भी कम क्यों न हो जाए, गैसोलीन कभी भी नहीं जमता।

6. जब आप किसी सीधी चढ़ाई वाले पहाड़ पर चढ़ते हैं तो आपके घुटनों पर आपके शरीर का तीन गुना भार होता है।

7. अगर किसी एक आकाश गंगा के सारे तारे नमक के दाने जितने हो जाए तो वह Olympic का पूरा का पूरा Swimming pool भर सकते हैं.

8. हवा तब तक आवाज नही करती जब यह किसी वस्तु के विपरीत न चले.

9. बृहस्पति इतना बड़ा ग्रह हैं की यदि शेष सभी ग्रह को आपस में जोड़ दिया जाये तो वह संयुक्त ग्रह भी बृहस्पति से छोटा ही रहेगा।

10. एक व्यक्ति बिना खाने के एक महीना रह सकता है पर बिना पानी के 7 दिन. अगर शरीर में पानी की मात्रा 1 प्रतिशत से कम हो जाए तो आप प्यास महसूस करने लगते है. अगर यह मात्रा 10 प्रतिशत से कम हो जाए तो आप की मौत हो जाएगी.

11. अभी तक उल्का पिंड द्वारा सिर्फ एक ही बनावटी उपग्रह नष्ट किया गया है. यह उपग्रह European Space Agency का Olympics(1993) था.

12. एक नजरिये से तापमान मापने के लिए Celsius स्केल Fahrenheit स्केल से ज्यादा अक्लमंदी से बनाया गया. पर इसके निर्माता Andero Celsius एक अनोखे वैज्ञानिक थे. जब उन्होंने पहली बार इस स्केल को विकसित किया, उन्होंने गलती से जमा दर्जा 100 और ऊबाल दर्जा 0 डिग्री बनाया. पर कोई भी उन्हें इस गलती को कहने का हौसला न कर सका, सों बाद के वैज्ञानिकों ने सकेल को ठीक करने के लिए उनकी मृत्यु का इंतजार किया.

13. Albert Einestein के अनुसार हम रात को आकाश में लाखों तारे देखते है जगह नही होते बल्कि कही और होते है. हमें तों उनके द्वारा छोडा गया कई लाख प्रकाश साल पहले का प्रकाश होता है.

14. आम तौर पे classes में पढ़ाया जाता है कि प्रकाश की गति 3 लाख किलोमीटर प्रति सैकेंड होती है. पर असल में यह गति 2,99,792 किलोमीटर प्रति सैकेंड होती है. यह 1,86,287 मील प्रति सैकेंड के बराबर होती है.

15. October 1992 में लंदन के आकार जितना बड़ा बर्फ का गोला Antarctic से टूट कर अलग हो गया था.

16. अगर हम प्रकाश की गति से अपनी नजदीकी गैलैक्सी (Galaxy) पर जाना चाहे तो हमें 20 साल लगेगें.

17. विश्व की सबसे भारी धातु ऑस्मियम है। इसकी 2 फुट लंबी, चौड़ी व ऊँची सिल्ली का वज़न एक हाथी के बराबर होता है।

18. जब पानी से बर्फ बन रही होती तो लगभग 10% पानी तो उड़ ही जाता है. इसलिए ही हमारे फ्रिज में Tray (ट्रे) पर पानी जमा हो जाता है.

19. दुनिया के सबसे महंगे पदार्थ की कीमत सुनकर आप हैरान रह जाएंगे। इसका नाम जानने के बाद आप ये सोंच भी नहीं सकेंगे कि वाकई में इसकी कीमत इतनी ज्यादा होगी। आपमें से ज्यादातर लोग इसे सोना, चांदी या हीरा मान रहे होंगे। अगर ऐसा है तो आपको गलतफहमी में है। दुनिया की सबसे महंगा पदार्थ एंटीमैटर(प्रतिपदार्थ) है। प्रतिपदार्थ पदार्थ का एक ऐसा प्रकार है जो प्रतिकणों जैसे पाजीट्रान, प्रति-प्रोटान, प्रति-न्युट्रान मे बना होता है. ये प्रति-प्रोटान और प्रति-न्युट्रान प्रति क्वार्कों मे बने होते हैं. इसकी कीमत सुनकर आपके होश उड़ जायेंगे। 1 ग्राम प्रतिपदार्थ को बेचकर दुनिया के 100 छोटे-छोटे देशों को खरीदा जा सकता है। जी हां,1 ग्राम प्रतिपदार्थ की कीमत 31 लाख 25 हजार करोड़ रुपये है। नासा के अनुसार,प्रतिपदार्थ धरती का सबसे महंगा मैटीरियल है। 1 मिलिग्राम प्रतिपदार्थ बनाने में 160 करोड़ रुपये तक लग जाते हैं। जहां यह बनता है, वहां पर दुनिया की सबसे अच्छी सुरक्षा व्यवस्था मौजूद है। इतना ही नहीं नासा जैसे संस्थानों में भी इसे रखने के लिए एक मजबुत सुरक्षा घेरा है। कुछ खास लोगों के अलावा प्रतिपदार्थ तक कोई भी नहीं पहुंच सकता है। दिलचस्प है कि प्रतिपदार्थ का इस्तेमाल अंतरिक्ष में दूसरे ग्रहों पर जाने वाले विमानों में ईधन की तरह किया जा सकता है।

20. न्युट्रॉन तारे इतने घने होते हैं कि उनका आकार तो एक गोल्फ बाल जितना होता है मगर द्रव्यमान(वज़न) 90 अरब किलोग्राम होता है.

21. अगर धरती का आकार एक मटर जितना कर दें तो बृहस्पति इससे 300 मीटर दूर होगा और प्लुटो 2.5 किलोमीटर . मगर प्लुटो आपको दिखेगा नही क्योंकि तब इसका आकार एक बैक्टीरिया जितना होगा.

22. सूर्य द्वारा छोड़े गए 800 अरब से ज्यादा न्यूट्राॅन आपके शरीर में से गुजर गये होंगे जब तक आपने ये वाक्य पढ़ा है।

23. विश्व के विद्युत उत्पादन का एक तिहाई सिर्फ बल्बों के द्वारा प्रकाश पाने में खर्च होता है।

24. हर घंटे Universe सभी दिशाओ में 1 billion miles से भी ज्यादा फैल जाती है।

Related Post:
Loading...


loading...

99 Comments

  1. Sumit May 15, 2016
  2. Vivek May 15, 2016
  3. Arif husain May 15, 2016
  4. Rahiman sab May 15, 2016
  5. gitesh May 15, 2016
  6. pawan sinha May 15, 2016
  7. Bandhan sharma May 15, 2016
  8. piyush May 15, 2016
    • Ankit Banger May 16, 2016
  9. vicky May 16, 2016
    • Ankit Banger May 16, 2016
  10. Anuj May 16, 2016
  11. prasant May 16, 2016
  12. ankit May 16, 2016
  13. Anish Gupta May 19, 2016
  14. simran May 21, 2016
  15. vivek sinha May 22, 2016
  16. Nishant kumar raushan May 23, 2016
    • shankar September 20, 2016
  17. Tarun June 11, 2016
  18. Naresh Nain June 14, 2016
    • yashwant June 16, 2016
  19. deepak sharma June 15, 2016
  20. Amit June 16, 2016
  21. Deepak sahu June 20, 2016
  22. Bablu Mehta June 21, 2016
  23. pooja June 22, 2016
  24. Darshan Kumar June 25, 2016
  25. JASWANT June 28, 2016
  26. pankaj sharma June 30, 2016
  27. mohak rathore July 1, 2016
    • Shivam August 8, 2017
  28. Shubham July 5, 2016
  29. Udayveer Singh July 8, 2016
  30. praveen July 20, 2016
  31. shubham Baranwal July 20, 2016
    • Ankit Banger July 20, 2016
  32. chandan Kumar singh July 21, 2016
    • Ankit Banger July 21, 2016
      • Chandrakishor sharma August 31, 2016
      • virendra September 22, 2016
  33. Ronak saharawat August 4, 2016
  34. Naveen Rana August 4, 2016
  35. Praveen August 4, 2016
  36. Abhi garg August 5, 2016
  37. Aryan August 9, 2016
  38. Puneet Srivastav August 20, 2016
  39. Nalin kumar August 25, 2016
  40. arya chouhan August 28, 2016
  41. Avinash Singh September 4, 2016
  42. Satyam bhaskar September 6, 2016
  43. Mangal September 13, 2016
  44. stark September 17, 2016
  45. Rashid Khan September 20, 2016
  46. Ravindra Thakare September 23, 2016
  47. Ajith September 25, 2016
  48. shivam September 26, 2016
  49. jaspreet singh September 27, 2016
  50. Mahi singh October 2, 2016
  51. shyam sunder Gour October 5, 2016
  52. hittu raazput October 9, 2016
  53. sanjay pandey October 10, 2016
  54. Veer October 14, 2016
  55. SHUBHAM TIWARI October 27, 2016
  56. Dpk rwt October 28, 2016
  57. Raj V October 30, 2016
  58. Harsha November 1, 2016
  59. Vinod Kumar November 8, 2016
    • Sobhit January 29, 2017
  60. Hiral November 12, 2016
  61. Anuj kumar patel November 13, 2016
  62. subhash kumar November 21, 2016
  63. Dhananjay gope November 23, 2016
  64. mridul gupta December 16, 2016
  65. deep December 29, 2016
  66. Mahendra Choudhary December 29, 2016
  67. rajesh anuj soni January 2, 2017
  68. kranti January 8, 2017
  69. rehaan February 6, 2017
  70. suresh Kalathiya February 13, 2017
  71. सुनील कसौधन February 18, 2017
  72. Ranjan February 18, 2017
  73. Varun Kanwat April 6, 2017
  74. Rangnath pathak April 16, 2017
  75. Amit kumar Basudev April 25, 2017
  76. RATAN JADHAV June 6, 2017
  77. ravi shukla June 13, 2017
  78. Ambika G Yadav November 19, 2017

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *